खरगोश और कछुआ की कहानी: संप्रग के तीन साल पूरे

by

UPA GOV 3 years completed 

क्या मजेदार काटरून है। सही बनाया है राजेंद्र जी ने। राजनीति और अर्थशास्त्र दोनों साथ में बंधे हुए हैं..यह तो बड़ी विडंबना है। मैंने इन दो दिनों में चाटुकार पत्रकारिता की कुछ मिसाल देखी हैं। संप्रग के तीन साल पूरे होने पर विभिन्न अखबारों ने अलग-अलग हेडिंग लगाई थी। अगर आपके पास कुछ अखबार हो तो देख लें..। आपको भी पता चला जाएगा। और फिर भी ना समझ आए तो उनके संपादकीय पृष्ठ को जरा पढ़ लें।

7 Responses to “खरगोश और कछुआ की कहानी: संप्रग के तीन साल पूरे”

  1. paramjitbali Says:

    बहुत बढिया है व सटीक हैं

  2. ज्ञानदत्त पाण्डेय Says:

    ये खरगोश-कछुआ तो सही है. उनके पैर एक साथ बांधे किसने हैं?

  3. संजय बेंगाणी Says:

    ये खरगोश-कछुआ तो सही है. उनके पैर एक साथ बांधे किसने हैं?

    राजनितीक मजबुरी ने.

  4. PRAMENDRA PRATAP SIN Says:

    आधुनिक गांधीवाद ने

  5. राजलेख Says:

    कार्टून बहुत अच्चा लगा
    deepak bharatdeep

  6. समीर लाल Says:

    बढ़िया कार्टून लाये हैं, पसंद आया.🙂

  7. RAMEES M.S Says:

    Plese Bring me the Story of “Rabbit And The Tortoise” in HINDI

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: