स्टाक एक्सचेंज और अच्छी पत्रकारिता का संबंध

by

रामनाथ गोयनका पत्रकारिता सम्मान में 24 उत्कृष्ट पत्रकारों को सम्मानित किया गया है। इनमें से कुछ को तो हम पहचानते ही हैं। बाकियों को कुछ जानते होंगे।

कल रात एनडीटीवी पर उस दौरान हुई बहस को देख रहा था। क्या अच्छी पत्रकारिता बुरा व्यवसाय है?

वैसे इसके बीच में बता दूं कि आजकल मैं शेयर मार्केट में खरीद-फरोख्त भी कर रहा हूं। वहीं से जोड़ कर यह विचार आया जिसे मैं यहां लिख रहा हूं।

आज भारत के हिंदी चैनलों पर भूत, सांप, बाबा, औघड़, हाथी आपको खूब मिल जाएंगे। और इनसे तथाकथित खुशी मनाने वाली टीआरपी भी मिल जाती है। यह खबरें नहीं होती हैं वरण टीआरपी का फंडा होता है।

ठीक इसी तरीके से शेयर बाजार में अगर कोई चलताऊ शेयर ले ले और उसे कुछ मुनाफा हो जाए तो उसे यह कतई नहीं समझना चाहिए कि ऐसे स्टाक्स अच्छे होते हैं। आज मिल रहे हैं, कल डूब भी सकते हैं।

लेकिन यदि आप ब्लू चिप्स खरीदते हैं तो आपका पैसा डूबेगा नहीं। भले आप उसे आल टाईम हाई में ही क्यों ना खरीद रहें हों। भारतीय बाजार में अभी अति संभावना है।

अब इसी को हिंदी पत्रकारिता से जोड़ दें। हमेशा ‘ब्लू चिप’ रिपोर्ट बनाने चाहिए इसमें आपको मुनाफा मिल कर ही रहेगा। आज नहीं तो कल। और इसी कारण गोयनका पुरस्कार पाने वालों में सारे ऐसे नाम थे जिन्होंने ‘ब्लू चिप’ रिपोर्ट बनाई थीं।

यह केवल पत्रकारिता और शेयर बाजार के लिए नहीं बल्कि इसे हम आप आम जिंदगी में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

2 Responses to “स्टाक एक्सचेंज और अच्छी पत्रकारिता का संबंध”

  1. अविनाश Says:

    आईबीएन 7 ने कल उस बहस को प्रसारित किया था… एनडीटीवी ने नहीं…

  2. Rajesh Roshan Says:

    माफ़ करना अविनाश आपसे ऐसी भूल अच्छी नही लगती । IBN 7 ने भी किया होगा लेकिन मैंने उसे NDTV 24 7 पर रात १० से ११ बजे तक के slot में देख था

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: