आह! ये इंटरनेट ‘यारी’ से परेशान हो गया हूं

by

ऐसा लगता है जैसे ‘यारी’ की बाढ़ आ गई है। पिछले सात दिनों में मुझे ‘यारी’ सोशल नेटवर्किग साइट की ओर से कुल 23 लोगों ने दोस्ती का हाथ बढ़ाया। मैं आकरुट पर रजिस्टर हूं। वहां से मुझे एक सीख मिली। सोशल नेटवर्किग साइट्स से जितना फायदा नहीं है उससे कहीं ज्यादा घाटा मुझे दिखता है।

आकरुट को मैं कॉपी-पेस्ट की दुनिया कहता हूं। यहां एक की कापी मारकर दूसरे को चिपका दिया जाता है। यारी से पहले ‘टैग्गड’ ने भी मुझे परेशान किया था। मुमकिन है आप लोगों को भी..।

यह इंटरनेट की दुनिया है यारों, जरा बच के। इस दुनिया की खास बात यह है कि यहां अच्छी चीजें कम, बुरी चीजें ज्यादा मिलती हैं। आपको संभल कर अच्छी चीजों को उठाना होगा। भीड़ को देखकर आप भी उनके साथ ना हो लें।

8 Responses to “आह! ये इंटरनेट ‘यारी’ से परेशान हो गया हूं”

  1. रवि Says:

    आपने मेरे दिल का दर्द बयान कर दिया.

    टैग यारी व इसी किस्म की फोकट की आरकुटाई से बचना चाहिए हम सभी को

  2. जीतू Says:

    अरे तुम अकेले नही हो, हमको भी ऐसे ही ’परेशानी’ वाले इन्वीटेशन मिले है। हम तो इनको सीधे सीधे कचरे के डब्बे मे डालते है। ऊपर से तुर्रा ये, कि जिसके यहाँ से यह इन्वीटेशन आया है, उसको तक को पता नही। जहाँ तक मुझे बताया गया है, कि किसी एक कवि ने अनजाने मे अपना लागिन पासवर्ड इस साइट को दिया था, जहाँ से उसकी पूरी एड्रेसबुक को हैक कर लिया गया और सबके यहाँ भेज दिया गया। कुछ भाई, फंस भी गए तो उनकी एड्रेसबुक भी हैक हो गयी। वैसे ये सब लोगो से अनजाने मे ही हुआ। लेकिन तकलीफ़ तो सभी को हुई, इसलिए लोग किसी भी साइट पर रजिस्टर करने से पहले दस बार सोचें और अपना इमेल का पासवर्ड किसी को भी किसी भी स्थिति मे ना दें।

  3. sanjay bengani Says:

    सभी परेशान है, आप अकेले नहीं है. चलिए दर्द सांझा करे, यारी पर…?🙂

  4. मैं यार नहीं हूँ. Says:

    […] से परेशान राजेश ने जब यहाँ लिखा तो, मेरी यारी.कॉम से खीज भी लिखने […]

  5. समीर लाल Says:

    सच भाई. यह यारी और टैग्ड-दोनों से हैरान हैं. आपका दर्द समझ सकते हैं.

  6. वि‍ष्णु बैरागी Says:

    परेशान होने वालों के मुकाबले बचे हुओं की तादाद ज्‍यादा है । फंसने वालों से हमदर्दी ।

  7. Sanjeeva Tiwari Says:

    अरे हमें भी भेजे जा रहे हैं ऐसे एंथ्रेक्‍स भाई ।

    “आरंभ” संजीव का हिन्‍दी चिट्ठा

  8. उन्मुक्त Says:

    ठीक कहा

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: