एक कार्टून: ये है असली सेतुसमुद्रम की लडाई

by

setusamudram

9 Responses to “एक कार्टून: ये है असली सेतुसमुद्रम की लडाई”

  1. समीर लाल Says:

    सही फरमाया.असल मुद्दा तो यही है.

  2. Arvind Chaturvedi Says:

    लड़ाई कोई भी लड़े, जीतेगा सच.

  3. संजय पटेल Says:

    राम का होना न होना और राम सेतु का भी होना न होना व्यक्तिगत आस्था का विषय है लेकिन इन मुद्दों का राजनीतिकरण कर के हम अपने प्यारे देश का ही नुकसान कर रहे हैं.एक ओर तो कहाँ वैश्विक परिदृश्य पर भारत एक महाशक्ति बन कर उभर रहा है. इसके साँफ़्टवेयर इंजीनियर्स पूरे विश्व में अपनी धाक जमा रहे हैं.दूसरी ओर हम इन मुद्दों को उठा कर अपनी साख गिरा रहे हैं.समय आ गया है कि देश के लिये सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीशों की एक पंचाट बना दी जाए और उसमें सभी अग्रणी धर्मों से ऐसे प्रतिनिधि शामिल किये जाएँ जो युवा हों…नई सोच वाले हों…धर्म-निरपेक्षता में विश्वास करते हों और आने वाले पचास साल के भारत के बारे में दूर दृष्टि रखते हों ..यदि समय रहते हमारी सरकार,हमारे राजनैतिक दल और विधायिका नहीं चेती तो समझ लीजिये धर्म के नाम पर एक ऐसी आग इस देश में चेतेगी कि पूरा देश झुलस जाएगा. परिस्थितियों का तकाज़ा यह कहने के लिये मजबूर करता है कि यदि भारत को महाशक्ति बन कर उभरना है तो कम से कम दस वर्षों के लिये हर धर्म के सार्वजनिक आयोजनों पर बंदिश लगा दी जानी चाहिये. धर्म का अनुशीलन नितांत निजी आस्था का विषय होना चाहिये और अपने घर परिवार के बीच ही इसके निर्वाह की इजाज़त दी जानी चाहिये. इस काम की अगुआई सबसे पहले भाजपा को करनी चाहिये और सभी राजनैतिक दलों को विश्वास में लेना चाहिये.वोट बैंक की हानि-लाभ से ऊपर उठकर राजनैतिक दल यदि विचार नहीं करेंगे तो शायद हमें बहुत बुरा समय देखना पड़े.यदि कोई राजनैतिक दल इस सकारात्मक क़दम के लिये आगे नहीं आता तो फ़िर सुप्रीम कोर्ट को इस काम के लिये अगुआई करना चाहिए.

  4. Pawan Says:

    धर्म-निरपेक्षता का ख्याल रखते हुए सबसे पहले तो भारत का नाम बदलना चाहिए क्योंकि ये नाम हिन्दू धर्म से जुड़ा है. ये नाम भी उस पुल की तरह मिथक कथाओं से लिया गया है.

  5. श्रीश शर्मा Says:

    @Pawan,
    पवन जी भारत से पहले सूर्य, चंद्रमा, पृथ्वी आदि का नाम बदलवाइए, क्योंकि ये भी मिथक कथाओं से लिए गए हैं।

  6. neeshoo Says:

    वाह क्या बात है।

  7. sanjay bengani Says:

    हम भी हिन्दू धर्म से जुड़े हुए है, अतः अपने आप को बदल देना चाहिए!!!!
    वैसे पवनजी ने अपनी बात व्यंग्य में कही लग रही है.

  8. रा Says:

    सटीक

  9. Shiv Kumar Mishra Says:

    मुझे नहीं लगता कि ये राजनीति कि लड़ाई है….ये खालिश धार्मिक लड़ाई है….हम जब तक सच का सामना नहीं करेंगे, समस्याएं बनी रहेंगी…

    पता नहीं क्यों हर बात को राजनीति का कम्बल ओढा कर देखा जाता है….केवल राजनीतिज्ञों के टांग अडाने से मामला राजनीति का नहीं हो जाता…..मूलतः रहता धार्मिक ही है…आम जनता राम-सेतु के तोड़ने का विरोध इस लिए नहीं कर रही है कि बीजेपी उसे भड़का रही है. आम जनता इसका विरोध इस लिए कर रही है कि बाकी की पार्टियां जनता को भड़का रही हैं.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s


%d bloggers like this: